बरगद का वृक्ष और उनसे होने वाले लाभ

बरगद के दूध का प्रयोग:- बरगद के पेड़ को तो सभी जानते हैं दोस्तों भारत में कई जगह इसको वट वृक्ष कहा जाता है और अंग्रेजी इसे Banyan Tree बोलते हैं इस पेड़ में बढे चमत्कारी गुण मौजूद हैं और इसका पेड़ का तना, उसकी छाल और, पत्ते, और फल यहाँ तक की इसका दूध सब बहुत ही काम के चीज़ें हैं यहाँ इस पोस्ट में हम आपको आज बता रहे हैं के बरगद के दूध का प्रयोग कैसे करें और शीघ्रपतन, स्वप्नदोष, मरदाना कमज़ोरी, शारीरिक व यौन दुर्बलता को कैसे दूर करें.

बरगद के पेड़ के बारे में जानकारी और इसका महत्व
बरगद के पेड़ का परिचय :- दोस्तों भारत में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो बरगद के पेड़को न जानता हो लगभग सभी ने इसको देखा हुआ है हमारे भारत में इसको वट वृक्ष, और बढ़ के नाम से भी जानते हैं और इस पेड़ को हमारे यहाँ बहुत पवित्र माना गया है। विशेषतौर पर बरगद के पेड़ को पर्व या तीज, त्यौहार पर इसकी पूजा की जाती है।

बरगद का पेड़ एक बहुत ही बड़ा और विशाल होता है। वट वृक्ष की मोटी मोटी शाखाएं होती हैं और इन शाखाओं से इसकी जटाएं लटककर जमीन तक पहुंचती हैं ये बहुत मज़बूत होती हैं और तने का रूप ले लेती हैं जैसे-जैसे बरगद का पेड़ पुराना होता चला जाता है, वैसे-वैसे इसका चरों तरफ का दायरा बढ़ता ही जाता है। ज़्यादातर यह पेड़ आपको भारत में हर जगहों पर जैसे के विशेषकर मन्दिरों, किलों, पुरानी गढियों या फिर कुओं के आस-पास देखने को ज़रूर मिलते हैं.

Related Post
0 Comments